Latest job news, Exams, GPSC, UPSC, Sarkari Nokari, Bharati Updates, GK, General Awareness, OJAS

कंप्यूटर के उपयोग के लिए किन किन सावधानियों का ध्यान रखना चाहिए। और इनके लिए उपयोगी टूल्स की भी व्याख्या कीजिये ?

कंप्यूटर के उपयोग के लिए किन किन सावधानियों का ध्यान रखना चाहिए। और इनके लिए उपयोगी टूल्स की भी व्याख्या कीजिये ?

सही एवं गलत बतलाइये ।
1. कंप्यूटरीकृत प्रणाली के उपयोग से जिल्दसाजी हेतु भेजे गए धारावाहिकों के विषय में
जानकारी प्राप्त हो सकती है ।
2. वर्णानुक्रमणिका (Index) बनाने का प्रावधान कंप्यूटरीकृत धारावाहिक नियंत्रण | प्रणाली
से संभव नहीं है । 3. ऑन-लाइन खोज में बूलियन लाजिक का प्रयोग किया जाता है ।
4. बूलियन लाजिक में चार प्रकार के ऑपरेटरों का प्रयोग किया जाता है ।।

6. पुस्तकालय सॉफ्टवेयर के गुण (Features of Library Software)

धारावाहिक नियंत्रण हेतु बनाये गये सॉफ्टवेयर में निम्नलिखित गुण होने चाहिए: - |
(i) धारावाहिक नियंत्रण हेतु बनाये गये किसी भी सॉफ्टवेयर की सबसे मुख्य विशेषता यह होनी चाहिए कि संबंधित आँकड़ों का उपयोग पुस्तकालय की अन्य प्रक्रियाओं यथा प्रसूचीकरण, आगम-निर्गम, पीरसंचालन इत्यादि में भी किया जा सके । इस प्रकार से एक एकीकृत सॉफ्टवेयर (Integrated Software) का निर्माण किया जा सकता है जिससे पुस्तकालय कर्मियों के महत्वपूर्ण समय की बचत की जा सकती है ।
(i) सॉफ्टवेयर में क्रयादेश तैयार करने के साथ-साथ उनके लिए स्मरणिका तैयार करना, क्रयादेश रद्द करना आदि तैयार करने की भी सुविधा होनी चाहिए ।।
(iii) सॉफ्टवेयर केवल सूचना संग्रह की ही प्रक्रिया पूरी करने वाला न होना चाहिए, बल्कि इसके साथ संग्राहित सूचनाओं के उचित पुनःप्राप्ति एवं संप्रेषण का भी इसमें प्रावधान होना चाहिए । इस प्रक्रिया के उचित समायोजन हेतु सॉफ्टवेयर में विभिन्न प्रकार की अनुक्रमणिकाएँ तैयार करने की व्यवस्था होनी चाहिए ।
(iv) सॉफ्टवेयर में अद्यतन (Updating) एवं नवीकरण (Renewable) का प्रावधान होना चाहिए |
(v) धारावाहिक प्राप्ति एवं उनके नियंत्रण एवं भुगतान से संबंधित प्रावधान होना चाहिए ।
(vi) सॉफ्टवेयर में बाइंडिंग सूची तैयार करने का प्रावधान होना चाहिए तथा धारावाहिक प्रकाशनों, बाइंडिंग के पश्चात् वापस आ जाने पर नयी सूची तैयार कर सकने में सक्षम होना चाहिए ।
(vii) सॉफ्टवेयर पुस्तकालय बजट को नियंत्रित करने के आवश्यक कार्य को कर कों कर सकने योग्य होना चाहिए ।
| (viii) उपयोक्ता द्वारा प्रयुक्त प्रमुखशब्द, आख्या, लेखक, नाम, देश संहिता आदि किसी भी क्षेत्र से उपयुक्त प्रलेख के विषय में सूचना उपलब्ध कराने में सॉफ्टवेर होना चाहिए ।
(ix) सॉफ्टवेयर साहित्य खोज, परिसंचालन, सांख्यिकीय विश्लेषण, चयनित सूचना संप्रेषण, सामयिक भिन्नता सेवा आदि सेवा उपलब्ध कराने वाला होना चाहिए ।
(x) सॉफ्टवेयर में समय-समय पर तैयार किये जाने वाले प्रतिवेदनों (यथा धारावाहिकों की सूची, अप्राप्य प्रकाशनों की सूची, सामयिक आख्याओं की सूची, विषयानुसार शीर्षक, स्मरण पत्र, प्रकाशकों की सूची आदि) के तैयार किये जाने
(xi) का प्रावधान होना चाहिए ।

7. कुछ प्रमुख पुस्तकालय सॉफ्टवेयर

वर्तमान समय में बहुत से पुस्तकालय सॉफ्टवेयर बाजार में उपलब्ध हैं जिनमें से कुछ एकीकृत पुस्तकालय सॉफ्टवेयर है तो कुछ केवल सूचना संग्रह एवं पुन: प्राप्ति हेतु ही उपयुक्त हैं । कुछ सॉफ्टवेयर किसी खास पुस्तकालय प्रक्रिया को ध्यान में रखकर तैयार किये गये हैं । विभिन्न पुस्तकालय प्रक्रिया एवं उनसे संबंधित सॉफ्टवेयरों की एक सारणी नीचे दी जा रही है:
LIBSYS SLIM++ LIBRARIAN LIBRIS ALICE SANJAY
SUITE अघिग्रहण सूचना (Acquisition) प्रसूचीकरण (Cataloguing) परिसंचालन (Circulation) धारावाहिक नियंत्रण (Seriol Control) 31190 (OPAC) प्रतिवेदन (Reports) पुस्तकालय सांख्यिकी (Library Statistics) बजट नियंत्रण (Buget Control) नेटवर्क वर्सन । (Network Version) इलेक्ट्रानिक प्रलेखों का X प्रसूचीकरण (Cataloguing of edocument) संघ सूची (Union Catalogue)

वस्तुनिष्ठ प्रश्न:

1. एक एकीकृत पुस्तकालय सॉफ्टवेयर के विषय में निम्नलिखित में क्या सही है:
(क) यह पुस्तकालय के कुछ खास कार्यकलापों को ही पूरा कर सकता है ।
(ख) यह केवल धारावाहिक नियंत्रण हेतु लाभकारी है ।। (ग) यह पुस्तकालय के अधिकांश कार्यकलापों को पूरा कर सकता है ।
(घ) यह केवल परिसंचालन व्यवस्था हेतु उपयुक्त है ।
2. निम्नलिखित में कौन सा सॉफ्टवेयर पुस्तकालय सांख्यिकी के कार्य को नहीं कर सकता
(क) लिब्सिस (LIBSYS) (ख) संजय (SANJAY)
(ग) लिब्रिस (LIBRIS)
(घ) स्लिम (SLIM++) 3. निम्नलिखित में कौन से सॉफ्टवेयरों का जोड़ा इलेक्ट्रानिक प्रलेखों के प्रसूची निर्माण हेतु
उपयुक्त नहीं है । (क) लिब्सिस, लिब्रिस (LIBSYS, LIBRIS) (ख) एलिस, संजय (ALICE, SANJAY) (ग) संजय, लिब्सिस (SANJAY, LABSYS)
(घ) एलिस, लाइब्रेरियन सूईट (ALICE, LIBRARIAN SUITE)

8. धारावाहिक नियंत्रण के मार्ग में आने वाली बाधाएँ

(i) कर्मचारियों के रोजगार पर विपरीत प्रभाव पड़ने का भय:- एक एकीकृत पुस्तकालय सॉफ्टवेयर के द्वारा अनुमोदन एवं परिग्रहण के समय अंकित डेटा का उपयोग अन्य तकनीकी प्रक्रियाओं में किया जा सकता है, जिससे आम लोगों के मन में यह भय आना स्वाभाविक है। कि कंप्यूटरीकरण से रोजगार की समस्या उत्पन्न हो सकती है ।
(ii) खर्चीली प्रौद्योगिकी का भय:- सामान्यत: पुस्तकालय को एक सीमित वजह, प्रदान किया जाता है । उस बजट में मँहगी प्रौद्योगिकी के प्रयोग से पुस्तकालय की अन्य सेवाओं पर असर पड़ने की संभावना बनी रहती है । परन्तु ऐसी बात नही है | कुछ पुस्तकालय सॉफ्टवेयर यथा सीडीएस / आईएस आईएस (CDS/ISIS), टुडेन (Trooden), सोल (SOUL) आदि को काफी कम खर्च पर भी पुस्तकालय द्वारा खरीदा जा सकता है ।
(iii) मुद्रा विनिमय दर में उतार-चढ़ाव:- चूँकि विभिन्न मुद्राओं के विनमय दर में उतारचढाव देखा जाता है अत: पुस्तकालय द्वारा समय-समय पर अपने कंप्यूटर तंत्र में इनकी दरों को परिवर्तित जाना आवश्यक होता है जो एक श्रमसाध्य कार्य है ।। |
(iv) नाम परिवर्तन:- जर्नलों के नाम में बार-बार परिवर्तन होते रहते है, उस जर्नल से संबंधित आँकड़ों में बार-बार परिवर्तन करना पड़ता है। सबसे मुख्य कठिनाई उस समय आती है, जब एक जर्नल टूटकर दो भागों में बँट जाता है ।

सही / गलत बतलाइये 

1. मुद्रा विनिमय दर में परिवर्तन धारावाहिक नियंत्रण के मार्ग में एक अवरोध सिद्ध
| होता है । 2. धारावाहिकों के नाम में परिवर्तन इसके नियंत्रण पर विपरीत प्रभाव डालता है ।
कंप्यूटरीकरण का प्रभाव कर्मचारियों के रोजगार पर पड़ सकता है । 9. धारावाहिक नियंत्रण के मानक
धारावाहिकों से संबंधित आँकड़ों के विनिमय हेतु यह आवश्यक है कि सभी पुस्तकालय एक मानक प्रारूप का प्रयोग करे । इस तथ्य के मद्देनजर 1982 में संयुक्त राज्य अमेरिका के धारावाहिक उद्योग के प्रतिनिधि, प्रकाशक, विक्रेताओं, आपूर्तिकर्ताओं आदि ने मिलकर सीरियल इंडस्ट्रीज सिस्टम एडवाइजरी कमिटी (SISAC: Serial Industry System Advisory
112
टैग
Committee) का गठन किया । इस समिति का मुख्य उद्देश्य धारावाहिक नियंत्रण हेतु एक मानक तैयार करना था जिससे धारावाहिक के प्रत्येक अंक एवं आलेख को एक अलग कोड (Unique Identification Code) दिया जा सकें

0 Comments:

Post a Comment

Menu :
Powered by Blogger.