Latest job news, Exams, GPSC, UPSC, Sarkari Nokari, Bharati Updates, GK, General Awareness, OJAS

3. शैक्षणिक पुस्तकालयों में सूचना सेवा का क्या स्वरूप हैं?

3. शैक्षणिक पुस्तकालयों में सूचना सेवा का क्या स्वरूप हैं?

हिन्दी ग्रंथ अकादमी 1997 3. Prashar, R.G., Ed. Library and Information Science: Parameter and
Perspectives. 2v. New Delhi, Concept. 1997. 4. सूद, एस.पी., सम्पादक, प्रलेखन एवं सूचना विज्ञान, वितीय संस्करण, जयपुर,
प्रिंटवेल, 1998 5. Parashar, R.G., Information and its communication, New Delhi,
Medallion, 1991. 6. निगम, बी.एस., सूचना, सम्प्रेषण एवं समाज, भोपाल, म. प्र. हि. ग्र. अ., 7. Bose, H., Information science: principles and practice, ed. 2, Delhi,
Strelling, 1993. 8. Guha, B., Documentation, ed. 2. Calcutta, World Press, 1983. 9. Rowley, J.E., and Turner (CMD). Dissemination of Information,
London, Andre Deutsch, 1978.
10. Vickery, B.C., and Vickery (A). Information science its theory and
pracrice, London, Butter Worth, 1987. 11. Chottey, Lal: Information sources in science and technology, Delhi,
Bharti, 1986. 12. Parker, C.C., and Turley (RV). Information sources in science and
Techonology, London, Butter Worth, 1985 13. Dhyani, Pushpa, Ed., Information science and libraries, New Delhi,
Atlantica, 1990.

4. कम्प्यूटरीकृत सूचना सेवा किसे कहते है?

1. सूचना अधिकारी की अवधारणा स्पष्ट करना, 2. सूचना अधिकारी के विभिन्न कार्यों को समझाना, 3. सूचना अधिकारी के गुणों से परिचित कराना,
4. सूचना अधिकारी की योग्यताओं के संबंध में बताना । सरंचना
1. विषय प्रवेश 2. सूचना अधिकारी के कार्य 3. सूचना अधिकारी के गुण 4. सूचना अधिकारी की योग्यताएं 5. सारांश 6. अभ्यासार्थ प्रश्न
7. विस्तृत अध्ययनार्थ ग्रन्थसूची 1. विषय प्रवेश
सक्षम सूचना सेवा योग्य सूचना अधिकारी पर ही निर्भर है । जिस प्रकार बिन पानी मछली जीवित नहीं रह सकती ठीक इसी प्रकार योग्य, सुदृढ़ एवं कर्तव्य परायण सूचना अधिकारी के बिना सूचना सेवा भी संभव नहीं है। ज्ञान को अदयतन रखने में सक्षम सूचना अधिकारी ही अद्यतन सूचना सेवा अपने विशिष्ट सूचनाग्राही को दे सकते है ।
सूचना अधिकारी जितना अधिक सक्षम व गुणी होगा उतनी ही उच्च स्तरीय सूचना सेवा प्रदान कर सकता है। सूचना अधिकारी वह व्यक्ति हैं जो जिज्ञासुओं से संबंधित समस्त सूचनाओं का संग्रह एवं प्रसार करता हैं एवं उन्हें नवीनतम सूचनाओं से अवगत कराने का पूरापूरा प्रयास करता हैं । इस प्रकार सूचना सेवा की कार्यक्षमता पूर्णतया एक सुयोग्य सूचना अधिकारी पर ही निर्भर हैं ।
किसी भी संस्था अथवा विभाग के उद्देश्यों की पूर्ति के लिए एक ऐसे अधिकारी की आवश्यकता होती है जो उसे एक सही मूर्त रूप प्रदान कर सके । कितने भी सुंदर भवन में कितने ही अच्छे सूचना स्रोतों को व्यवस्थित कर दिया जाए, एक सुयोग्य सूचना अधिकारी के अभाव में जड़ ही रहेंगे । उन्हें गतिशीलता प्रदान करने हेतु गुण सम्पन्न सूचना अधिकारी परम आवश्यक हैं । सूचना सेवा एक मानवीय व्यक्तिगत सेवा है एवं ऐसी सेवाओं की सफलता का आधार योग्य व कर्तव्य परायण सूचना अधिकारी ही होता है । सूचना अधिकारी सूचना एवं

इकाई -10: सूचना अधिकारी के कार्य, गुण एवं योग्यताएं (Information Officer: Functions, Qualities and Qualifications)

जिज्ञासु के मध्य एक सेतु का कार्य करता है वह एक सच्चा मित्र, दार्शनिक तथा निदेशक भी होता हैं । 2. सूचना अधिकारी के कार्य सूचना अधिकारी के कार्य पुस्तकालयाध्यक्ष से भी अधिक हो जाते है । वस्तुतः सूचना अधिकारी के द्वारा समर्पित कार्यों से ही किसी भी संस्था की ख्याति निर्मित होती हैं । देखा जाय तो पद में सूचना अधिकारी भले ही पुस्तकालयाध्यक्ष के अधीन कार्य करता है परन्तु उसके कार्य तथा जिम्मेदारियाँ किसी भी तरह कम नहीं होती । एक सूचना अधिकारी के निम्नलिखित प्रमुख कार्य होते हैं ।
4.1. निर्देशात्मक कार्य: सूचना अधिकारी को सभी विभागों से तालमेल बैठाकर सूचनाएँ प्रदान करनी होती हैं अत: एक प्रमुख कार्य अन्य विभागों से तालमेल व सहयोग बैठाना भी हैं । एक अधिकारी को अभिलेख सुरक्षित रखना तथा दिन प्रतिदिन के आँकड़ों के आधार पर विभाग की वार्षिक रिपोर्ट तैयार कर प्रस्तुत करना होता है । इसके अतिरिक्त उस विभाग के अन्य कर्मचारियों को दिशा निर्देशन तथा सहयोजन करना भी सूचना अधिकारियों के निरीक्षणात्मक कार्य के अधीन आते हैं।
इन कार्यों के अधीन वह कार्य आते है जो सूचना स्त्रोतों का अधिकतम उपयोग करने हेतु सूचना अधिकारी द्वारा किये जाते हैं । इसके अधीन पुस्तकालय में प्रयुक्त वर्गीकरण व प्रसूचीकरण पद्धतियों से पाठकों को परिचित करवाना तथा अभीष्ट सूचना खोजने हेतु पाठकों की मदद करना सम्मिलित हैं । इसी प्रकार आवश्यक अनुवाद उपलब्ध करवाना, फोटो प्रति उपलब्ध कराना तथा अंत पुस्तकालय आदान प्रदान द्वारा अन्य पुस्तकालयों से सुचारू सामग्री को एकत्रित कर वांछित जिज्ञासुओं को देना भी सूचना अधिकारी के कर्तव्य हैं ।।
4.1. सूचनात्मक कार्य : इसके अधीन लघु व दीर्घकालीन सूचना प्रश्नों को लेखाबद्ध करना, उनके उत्तर प्रदान करना संभावित हैं । तथ्यात्मक प्रश्नों, आँकड़े, घटना, तथ्य आदि प्रश्नों के उत्तर देना भी सूचनात्मक कार्यों के अंतर्गत आते हैं जिन्हें सूचना अधिकारी को पूर्ण करना होता हैं ।
4.2. मार्गदर्शात्मक कार्य : पाठक को मार्गदर्शन प्रदान करना सूचना अधिकारी का कर्तव्य हैं । व्यवसाय का अध्ययन संबंधी मार्गदर्शन इस श्रेणी के अधीन आते हैं ।
| 4.3. प्रलेखी कार्य :इसके अंतर्गत आयोजित विषयों पर वांछित सूचना प्रलेखों की सामग्री एकत्रित करके पहुँचाना होता हैं ।
4.4. समीक्षात्मक कार्य: सूचना विभाग की समीक्षा कर भविष्य के लिए सुधार हेतु योजना बनाना, वार्षिक लेखा जोखा तैयार करना तथा पाठकों की अभिरूची को समझना तथा उस आधार पर सूचना सामग्री के संग्रह हेतु आवश्यक कार्यवाही करना सूचना अधिकारी के कार्य
4.5. अन्य कार्य : इस सबके अतिरिक्त सूचना प्रदर्शनी, सामयिक विचारों पर संगोष्ठी आदि आयोजित करने का कार्य भी सूचना अधिकारी के कर्तव्य हैं ।

3. सूचना अधिकारी के गुण

| जुलिया आर आर्मस्टोंग के अनुसार सूचना अधिकारी बनाये नहीं जाते वरन् जन्मजात होते हैं । अन्य क्षेत्रों में पुस्तकालयाध्यक्ष के सर्वोत्तम संदर्भ पुस्तकालयाध्यक्ष के गुणों से भिन्न होते है । हचिन्स ने भी सूचना अधिकारी में कुछ गुणों का होना आवश्यक बताया है। उनके अनुसार अन्य गुणों के अतिरिक्त उनमें अच्छी याददाश्त तथा कल्पनाशील, नियमित, विवेकी, आदि गुण भी समाहित होना चाहिए ।
इसी प्रकार गेरा ने भी सूचना अधिकारी में पाये जाने वाले गुणों के बारे में महत्वपूर्ण बात कही। उनके अनुसार अपने पाठकों से कम से कम समकक्ष बुद्धिजीवी के रूप में मिल सके तथा उनसे सक्षम सम्प्रेषण करने योग्य हो । | विषयगत ज्ञान के बारे में हचिन्स के अनुसार वह उच्च शिक्षा प्राप्त हो, सभी विषयों की सामान्य जानकारी हो एवं उसका ज्ञान भंडार बड़ा होना चाहिए ।

0 Comments:

Post a Comment

Menu :
Powered by Blogger.